What can be done for social status back on top for RAJPUTS!!!

ग्रामीण राजपूतों परिवारों की तरक्की के लिए कार्य करना होगा तभी राजपूत एकता कायम होगी

राजपूत परिवार आज के समय में आर्थिक तंगी के शिकार होते चले जा रहे है जिस तरफ ध्यान देना जरूरी हो गया है अगर हम आप सब उन राजपूत परिवारों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने के लिए कुछ करें जो गांव में निवास करते है जिन्हें दो जून का खाना जुटा पाना असंभव हो रहा है और जो पूर्ण रूप से खेती पर निर्भर करते है और नजदीकी जगहों पर कार्य करना और प्राइवेट लोगो के यहाँ पर नौकरी करना राजपूती शान के खिलाफ़ मानते है और दूसरी तरफ बढते जनसँख्या दवाब के कारन जमींन में कमी आई है और उसी जमींन पर निर्भरता बढती जा रही है जिस कारण से राजपूत किसान परिवार कर्ज के बोझ टेल दबते चले जा रहे है इससे अगर हम आप सब मिलकर इनकी तरक्की के रास्ते बनाना शुरू करे राजपूतो में एकता का संचार ऑटोमेटिक शुरू हो जायेगा सिर्फ फेसबु

क पर बाते करने या क्षत्रिय
महासभा की मीटिंग कर लेने भर से हम आप अपने मकसद में कामयाब नहीं हो पाएंगे सुना है की २२ सितम्बर को आगरा में क्षत्रिय महासभा की मीटिंग होने वाली है बहुत खुसी की बात है जिसमे बहुत सी बातों पर विचार विमर्श होगा सभी लोगो के विचार आगामी योजना बनाने में मदद मिलेगी
सभी क्षत्रिय भाइयो से निवेदन है जो इस समूह में जुड़े हुए है वो अगर उस अधिवेशन में नहीं पहुँच पा रहे है तो अपने विचार जरूर भेजे या तो लिखित में या फिर फेसबुक पर भी भेजे साथ ही इस अधिवेशन के आयोजको से अपील है की सभी जगह से आये विचारों को शामिल किया जाकर उन पर विचार किया जाये जो अच्छे विचार हो उन्हें कार्य योजना में शामिल करते हुए उन्हें शुचित भी किया जाये
हुकुम में आगरा अधिवेशन में पहुँच तो नहीं पा रहा हूँ लेकिन मेरे विचार से राजपूतों की आर्थिक तरक्की के लिए तथा सामाजिक एकता के लिए निम्न कार्य किये जा सकते हैं१- राजपूतों में भेदभाव – देश के अनेक हिस्सों में रायल राजपूत, शाही राजपूत, ठाकुर, या अन्य प्रकार से भेदभाव है जिसे अंजाम दे रहे है हमारे ही लोग जिस कारन से हम देख रहे है कई जगहों पर कई संगठन काम कर रहे है पहले इसको समाप्त करने के प्रयाश होना चाहिए की प्रतेक जिले में एक ही राजपूत संगठन हो जो समाज की तरक्की के लिए कार्य करे

२- आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के बच्चे अगर परिक्षाओ में अच्छी सफलता अर्जित करते है तो उनके गाइडेंस तथा कोचिंग के लिए प्रदेश और राष्टीय स्तर पर फ्री कोचिंग सुविधा देने की ब्वस्था की जाये

३- ग्रामीण राजपूत परिवार जिनका मुख्य खेती है उनके लिए कृषि से जुड़े हुए ब्यवसाय करने के लिए एक कार्य योजना बनाई जाये जैसे एक शहरी कसबे से लगे हुए गांव में दुग्ध उत्पादन हो और और कसबे में हमारे ही लोगो द्वारा एक केंद्र खोला जाये जो की इनसे इनका उत्पादन ख़रीदे जिससे इन्हें अपना उत्पाद बेचने में परेशानी ना हो जिससे इनकी आय में ब्रद्धि हो सके

४- राजनेतिक क्षेत्र में कार्य करने वाले लोग शासकीय योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए काम करे क्योंकि हम हमेशा पिछड़ रहे है जिसके लिए हमें काम करना होता है

५- आज के समय में सबसे बड़ी समस्या हो गई है दहेज जिसको खत्म तो नहीं किया सकता लेकिन कम जरूर किया जा सकता है क्योंकि लाखों परिवार आज अपनी बेटी की शादी के लिए बहुत चिंतित रहते है इसके लिए सामूहिक परिचय और विवाह सम्मलेन करने का आयोजन किया जाये जिससे आर्थिक रूप से पिछड़े परिवार उसका लाभ उठा सके और उनकी आर्थिक उन्नति हो सके

A message from a Rajput for Rajputs all across the globe.
Jay mataji from Navjyotsinh Jadeja

11 thoughts on “What can be done for social status back on top for RAJPUTS!!!

  1. Nanubha Rathod

    RAJPUT SAMAJ SABSE BADI SAMSHYA KOUNSHI HAI ?

    1, BADE CHHOTE KI ASAMANTA.

    2,KURIVAJ KA SAMAJ MEIN HONA.

    3,MAHILA SHAHSHAKTI KARAN MEIN PICHHE.

    4, SHIKSHA MAIN SAMAJ DUSARE SAMAJ SE KAFI PICHHE.
    AGAR EES CHAR SAMASHYA KA NIRAKARAN LAYE TO BAKI SAMSHYAYEN TURANT HAL KI JA SHAKTI HAI.

    Reply
    1. admin Post author

      @Nanubha That is why we want all the rajputs on one platform.
      JAY MATAJI FROM NAVJYOTSINH JADEJA
      MOTI KHAVDI- NAVANAGAR

      Reply
  2. Bika rathore kirtirajsinh.bahadurshihji

    jai mataji khamaghani shaaa only 1 que. bharat ka oreganal RAJPUTKSHATRIYA kon PL. giev me ansar

    Reply
    1. bhaveshsinh chauhan

      ISH ORIGINATITY KE CHAKKAR ME TO HUM NE APNA KUDDKA BHI KOI UDDHAR NAHI KIYA . ME AUR BAS ME . HUME ABHI IN SAB BATO SE BAHAR ANNA CHAHIYE

      Reply
  3. bhaveshsinh chauhan

    Hamare Samaj me aaj ek bat achilagati he ki aaj hame ne apni buraio ko samajna chalu to kiya . Aur ish buraio ka annt bhi hoga hum Khstiya he Varttman hamara nahi he lekin Bhavishya hamrahi hoga JAY RAJPUTANA

    Reply
  4. gohil narendrasinh d.

    kshtriy samaj ko age lane k liye jagrit hona padenga .har ek nov javan ko ye sochana hoga ki rajputa k dharm kya h or ham kya kar rahe he isliye ye mere bhai o jago ik bhai ki pukar h or apne dharm or kam ke prati jagrit bano….
    all of my brathers jay matadi
    from
    N.D.GOHIL
    MO:8905003232

    Reply
  5. gohil narendrasinh d.

    SAMAJ ke prati jagriti k liye har kurivaj ko todo or har koi education le sake aisi vyavastha karo ye mere bhaiyo jago or us kshtriyata ko jagao jisme histry says “rajput samaj kalyan karta dharm rakshak or lok kalyan kari the ,he ,or rahenge…..
    jay mataji

    Reply
  6. brijeshchandrasinh Jadeja

    The only fault I find with my brothers is that they don’t stop talking about their own big surname. Jai Mataji Jadeja and Jhala. Gohils you too. Kha maghani, the rest of Rajputana.

    To be one. and strong. we will have to forget that we are Jadejas, Jhalas, sisodiyas, rathores and all other sinhs and singhs. Let us get one thing straight. We are Rajputs. Period. The fight can begin only then.

    Reply
  7. Bhupendra sinh Jashavant sinh Jadav

    As per my openion the following precotion will take place for to do up the social position of our Rajput Samaj:-
    1. First of all Rajput Brothers will take Sogandh for remain away from Sarab.
    2. To come out from Andhasradha. But not sradha.
    3. Avoid the un nessasory Expencises which are being doing at the time of Marrage Like Money throung on Dholi on the time of Barat or reception of grooms.
    4. Avery Rajput Brathors will take Songandh that they will give higher Education to thair childerns with out fail and do hard work.
    5. Generaly our Rajputs are of both vegitarian and Non-vegiterian so those who are attached with Agricalture they will start foul poultary by taking sub-sidy from Government and in the bussiness there is good income in the bussiness of poultary.so no body fill bed in doing poultary farm.
    6.Do not divide because of political culture and always remain in unity.
    Thanking
    Bhupendra sinh Jashavant sinh Jadav.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>

CommentLuv badge